जामिआ मिलिआ में हमलावर ने की फायरिंग

नफरत फ़ैलाने वालो की फसल तैयार हो गई है?

                                               हमलावर गोपाल 

गुरुवार के दिन जामिया मिल्लिया में उस समय अफरातफरी मच गया जब CAA के खिलाफ प्रदर्शन करने वालो के बीच देसी कट्टा लहराते हुए एक युवक घुश गया।

दरअसल 30 जनवरी का दिन बापू के सहादत का दिन है, सन 1948  में आज ही के दिन नाथूराम गोडसे ने महात्मा गाँधी की हत्या की थी। गुरुवार 30 जनवरी के दिन जामिया मिल्लिया के कुछ स्टूडेंट CAA के खिलाफ जामिया से राजघाट तक एक पदयात्रा पर रहे थे तभी उनके बीच देशी कट्टा लहराते एक युवक घुसा और फायरिंग शुरू कर दी।  इस फायरिंग में एक युवक 'शादाब' के घायल होने की खबर है। शादाब के हाथ पर चोट आई है।

चश्मदीदो का कहना है की हमलावर दिल्ली पुलिस जिंदाबाद, भारत माता की जय के नारे लगा रहा था। कुछ लोगो का यह भी कहना है की युवक  फायरिंग करते समय "ये ले आज़ादी" की बात कर रहा था।

गौर करने वाली बात यह है की ये सब पुलिस के सामने हो रहा था। कई पुलिसवाले  मूकदर्शक बनकर सब देख रहे थे। यहाँ यह सवाल बनता है की इतनी सुरक्षा के बीच यह युवक हथियार लेकर प्रर्दशनकारियों के बीच कैसे पहुंच गया।

आजतक ने हमलावर की पहचान गोपाल नाम से की है। वह फेसबुक पर खुद को रामभक्त गोपाल लिखता है। उसने हमले से पहले भी फेसबुक लाइव किया हुआ था।  वह जामिआ मिलिआ का छात्र नहीं है और नोएडा के जेवर का रहने वाला बताता है।
Fcebook  Of Gopal(Source- aajtak)

यहाँ आपको बताते चले की दो दिन पहले ही बीजेपी के मंत्री अनुराग ठाकुर ने एक सभा में नारा लगवाया था। "गोली मारो सा** को" जिसके लिए चुनाव आयोग ने उन्हें तीन दिन चुनाव प्रचार करने पर रोक लगाई है। यहाँ सवाल यह है की क्या सभाओं और रैलियों से फैलने वाली नफरत की जहर अब फसल तैयार कर रही है।
Previous
Next Post »